रे और ओसिरिस

रे और ओसिरिस

 

मिस्री लेख रे और ओसिरिस को जुड़वां आत्मा  कहते हैं।

शब्द व्युत्पत्ति के आधार पर देखें, तो रे/रा और ओसिरिस के बीच संबंध स्वयं स्पष्ट हो जाते हैं। ओसिरिस के लिए मिस्री शब्द आउस-रा है।

शब्द आउस का मतलब की शक्ति, या का मूल  है। आउसार शब्द में दो भाग हैं, इस प्रकार, आउस-रा, का मतलब हुआ रा की शक्ति, अर्थात् रा का पुनर्जन्म

रा (रे) और आउसार (ओसिरिस) अस्तित्व के निरंतर चक्र—जीवन और मृत्यु के चक्र—के प्रतीक हैं। रा सजीव नेतेर है जो मृत का नेतेर—आउसार बनने के लिए बनने के लिए मृत्यु में उतरता है। आउसार बढ़ता है तथा एकबार फिर से रा के रूप में जीवन में वापस लौट आता है। सृष्टि निरंतर हैः यह मृत्यु की दिशा में अग्रसर जीवन का प्रवाह है। लेकिन मृत्यु से एक नए जीवन अंकुरण होता है, एक नये रा के जन्म की संभावना बनती है। रा ऊर्जा का ब्रह्मांडीय तत्व है, जो मृत्यु की ओर अग्रसर होता है, तथा रा पुनर्जन्म की प्रक्रिया का प्रतिनिधित्व करता है। इस प्रकार, जीवन और मृत्यु परस्पर विनिमेय बन जाते हैं: जीवन का मतलब हो जाता है, धीमे-धीमे मरना, जबकि मृत्यु का अर्थ होता है फिर से जी उठना।

मृत्यु की अवस्था में मृतक को आउसार के रूप में जाना जाता है, परंतु वह फिर से जिंदा होगा और रा के रूप में जाना जाएगा।

प्राचीनमिस्रीग्रंथोंपर, आउसारतथाराकानिरन्तरचक्रहावीहै।

  • उजाले में आने की पुस्तक में, आउसार और रा दोनों जीते हैं, मरते हैं, और फिर से जन्म लेते हैं। पाताल में ओसिरिस और रे दोनों की आत्माओं का मिलन हो जाता है, (अनी के पपाइरी से लिया गया निम्न चित्र देखें) और वे एक इकाई बन जाती हैं, उजाले में आने की पुस्तक, में बहुत ही भावपूर्ण ढंग से इसका वर्णन किया गया हैः

मैं उसके जोड़े में उसकी दो आत्मा हूँ।

 

उजाले में आने की पुस्तक के अध्याय 17 में, मृतक, जिसकी पहचान आउसार के रूप में की गई है, कहती हैः

मैं बीता हुआ कल हूँ, मैं आने वाले कल को जानती हूँ।

  • और इस अंश पर मिस्री टिप्पणी स्पष्ट करती हैः

यह क्या है?आउसार बीता हुआ कल है, रा आने वाला कल है?

  • रानी नेफेर्तरी (रेमसेस द्वितीय की पत्नी) के मकबरे में, मेढ़े के सिर वाली ममी के रूप में मृत सौर नेतेर (ईश्वर) का प्रसिद्ध चित्रण किया गया है, जिसके दाएं और बाएं एक शिलालेख लगा हैः

neter-ram

यह रा है जो आउसार में विश्राम करने आता है।
यह आउसार है जो रा में विश्राम करने आता है।

  • रे की स्तुति मूल रूप से उजाले में आने की पुस्तक के अध्याय 17 के छोटे से अंश का विस्तार है, जो आउसार और रा का एक जुड़वें आत्मा में विलय हो जाने का वर्णन करती है।

 

[इसका एक अंश: मिस्र का ब्रह्मांड विज्ञान: सजीव ब्रह्मांड , तीसरा संस्करण द्वारा लिखित मुस्तफ़ा ग़दाला (Moustafa Gadalla) ] 

पुस्तक सामग्री को https://egypt-tehuti.org/product/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A3%E0%A5%8D%E0%A4%A1-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9C%E0%A5%8D/

————————————————————————————————————————-

पुस्तक खरीद आउटलेट:

उ – ऑडियोबुक kobo.com, आदि पर उपलब्ध है।
बी – पीडीएफ प्रारूप Smashwords.com पर उपलब्ध है
सी – एपब प्रारूप https://books.apple.com/…/moustafa-gadalla/id578894528 और Smashwords.com पर Kobo.com, Apple पर उपलब्ध है।
डी – मोबी प्रारूप Amazon.com और Smashwords.com पर उपलब्ध है