सुनहरा लक्ष्य — कीमिया

सुनहरा लक्ष्य — कीमिया

 

कीमिया किसी एक चीज को दूसरे बेहतर चीज में रूपांतरित करने की विधि/शक्ति/प्रक्रिया है, जैसे प्रतीकात्मक तौर पर सीसा से सोना बनाना।

असल में सोना, परम आध्यात्मिक सिद्धि का एक रूपक है; असली कीमियागर किसी उलजूलूल रसायन विद्या का अभ्यास नहीं किया करते थे, जैसा कि आधुनिक वैज्ञानिकों को गलतफहमी है, बल्कि वे पार्थिव पदार्थ (सीसा) से आत्मा (सोना) में तब्दील होने की आध्यात्मिक खोज में लगे रहते थे।

पदार्थ को सोने में बदलने की यह कीमियाई/सूफ़ी परंपरा प्राचीन मिस्री मूल की है, जो उनकी भाषा से परिलक्षित होती है, जैसे:

—मिस्री भाषा में अव्यवस्थित पदार्थ को बेन कहा जाता है, जिसके कई अर्थ होते हैं, जैसेः आदिकालिन पाषाण, सृष्टि का टीला, पदार्थ की प्रथम अवस्था, विरोध/निषेध, नहीं, कुछ नहीं, विविधता आदि।

बेन  की दर्पण-छवि नेब (बेन की वर्तनी का उल्टा) होती है, जिसके भी विभिन्न अर्थ होते हैं— जैसेः स्वर्ण (पारंपरिक तौर पर पूर्णतया सिद्ध अंतिम उत्पाद -कीमियागर का लक्ष्य), ईश्वर, मालिक, सर्व, वचन, पवित्र।

सभी प्रारंभिक (और बाद के) सूफ़ी लेखकों द्वारा प्राचीन मिस्री नेतेर थोथ (देवता) को कीमिया, रहस्यवाद, और सभी संबंधित विषयों के प्राचीन रूप के तौर पर मान्यता दी गई। मशहूर सूफ़ी लेखक, इद्रीस शाह, सूफ़ीवाद और रसायन विद्या पर थोथ और धू’इ-नून के माध्यम से मिस्र की भूमिका स्वीकार करते हुए कहते हैं:

“… कीमिया का ज्ञान सीधा मिस्र से थोथ के लेखन के जरिए से आया है
सूफ़ी परंपरा के अनुसार यह विद्या, सबसे प्रसिद्ध शास्त्रीय सूफ़ी शिक्षकों में से एक, मछली के राजा या भगवान, मिस्र के धूनून के द्वारा आया। ( सूफ़ीज, 1964)

थोथ का नाम प्राचीन गुरूओं में मिलता है, जिसे अब सूफ़ी पंथ कहते हैं। दूसरे शब्दों में, सूफ़ी और कीमियागर दोनों थोथ को अपने ज्ञान का आधार मानते हैं।

इद्रीस शाह, स्पेनिश अरब इतिहासकार टोलेडो (मृत्यु 1069) का सीधा संदर्भ देते हैं, जो प्राचीन मिस्री थोथ की परंपरा के बारे में कहते हैं:

संतों का कहना है कि सभी पुराने विज्ञान, ऊपरी मिस्र (अर्थात् ख्मुनु (हर्मोपोलिस) के मिस्री हेमीज़ (थोथ) से ही आरंभ हुए। यहूदी उसे हनोंक और मुसलमान इदरिस कहते हैं। वह पहले इंसान थे जिन्होंने ऊपरी दुनिया के पदार्थ और ग्रहों की गति के बारे में की बात की … चिकित्सा और कविता उन्हीं के कार्य थे … (साथ ही साथ) कीमिया और जादू सहित विज्ञान भी। (असिन पैलासिओस इब्न मसारा पृ. 13) मसारा का अर्थ मिस्री होता है।

मिस्री रहस्यवाद में मूल रूप से दो प्रकार के आध्यात्मिक अनुभव शामिल हैं।

1. नैतिक आत्म-नियंत्रण और सांसारिक निजी धार्मिक अंतर्दृष्टि के रूप में आध्यात्मिक आत्म विकास की खोज करना। खुद को शुद्ध करने में सक्षम आकांक्षी, अगली खोज के लिए तैयार होता है।

2. प्रकट संसार में ईश्वर को खोजना और साथ ही साथ ईश्वर में प्रकट संसार की तालाश करना। यह अपनी इंद्रियों की सीमाओं से परे जाकर बुद्धि और अंर्तज्ञान दोनों के उपयोग द्वारा ज्ञान प्राप्त करने पर हासिल होता है।

(इस विषय में अधिक विस्तृत जानकारी के लिए पढ़ें, इसी लेखक द्वारा लिखित इजिप्शियन मिस्टिक्सः सीकर्स आफ द वे।)

 

[इसका एक अंश: मिस्र का ब्रह्मांड विज्ञान: सजीव ब्रह्मांड , तीसरा संस्करण द्वारा लिखित मुस्तफ़ा ग़दाला (Moustafa Gadalla) ] 

पुस्तक सामग्री को https://egypt-tehuti.org/product/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A3%E0%A5%8D%E0%A4%A1-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9C%E0%A5%8D/

———————————————————————————————————————

पुस्तक सामग्री को https://egypt-tehuti.org/product/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%B0%E0%A4%B9%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%A6/

———————————————————————————————————————

पुस्तक खरीद आउटलेट:

उ – ऑडियोबुक kobo.com, आदि पर उपलब्ध है।
बी – पीडीएफ प्रारूप Smashwords.com पर उपलब्ध है
सी – एपब प्रारूप https://books.apple.com/…/moustafa-gadalla/id578894528 और Smashwords.com पर Kobo.com, Apple पर उपलब्ध है।
डी – मोबी प्रारूप Amazon.com और Smashwords.com पर उपलब्ध है

पुस्तक खरीद आउटलेट:
उ – ऑडियोबुक kobo.com, आदि पर उपलब्ध है।
बी – पीडीएफ प्रारूप Smashwords.com पर उपलब्ध है
सी – एपब प्रारूप https://books.apple.com/…/moustafa-gadalla/id578894528 और Smashwords.com पर Kobo.com, Apple पर उपलब्ध है।
डी – मोबी प्रारूप Amazon.com और Smashwords.com पर उपलब्ध है