इसिस : एक अलौकिक नारी

इसिस : एक अलौकिक नारी

 

उसका नाम

इसिस, नामकावर्तमानआमउपयोग, मातृभक्ति, कर्तव्यपरायणताऔरममताकेपहलूतकसीमितहै।लेकिनवहइससेकहींज़्यादाहै—वहउसदिव्यनारीतत्वकाप्रतिनिधित्वकरतीहैजिसमेंवहसृजनात्मकशक्तिहै, जो—शारीरिकऔरआध्यात्मिकदोनोंरूपसे—समस्तजीवोंकीकल्पनाकरतीहैऔरउन्हेंउत्पन्नकरतीहै।

प्राचीनमिस्रकेलोगइसिसकोलौकिकस्त्रीतत्वकाप्रतीकमानतेथे।इसतत्वमेंहजारोंनारीगुणवविशेषताएंसमाहितहोतीहैंऔरमिस्रवासियोंकेपासइसनारीतत्वकेप्रत्येकस्वरूपकावर्णनकरनेकेलिएशब्दथे।

अंग्रेजी संस्कृति में, नाम केवल एक लेबल होता है, जो किसी एक व्यक्ति या वस्तु को दूसरे से अलग पहचान देता है। लेकिन मिस्रवासियों (प्राचीन और वर्तमान मूक बहुंख्यक दोनों) के लिए, एक सामान्य “नाम” किसी अस्तित्व (व्यक्ति/वस्तु/देवता आदि) के गुणों और विशेषताओं का संक्षेप या सार है। मिस्र के सामान्य नामकिसीभीअस्तित्वकीविशेषताऔरगुणहोतेहैं।यहहिन्दीकेबढ़ई, किसानजैसेशब्दोंकेसमानहैजोएकविशिष्टगतिविधिकाप्रतिनिधित्वकरतेहैं।

हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में, हम उसके नाम का उल्लेख इसिस या आइसिस के रूप में करते हैं, लेकिन मिस्रियों के पास उस लौकिक स्त्री तत्व की समग्रता का संक्षेप करने वाला एक प्रतीक शब्द था। यह व्यापक मिस्री शब्द था आउसेत। तोइसप्राचीनमिस्री “नाम” मेंक्याहै? यहदेखनेकेलिएकिकैसेकोईनामगुणोंऔरविशेषतायोंकाप्रतिनिधित्वकरताहै, आइएहमआउसेतकाअर्थदेखतेहैं।

आउसेत में मुख्य शब्द औस और प्रत्यय एत होते हैं। औस का अर्थ है स्रोत, शक्ति या पावर। गणितमें, हम 2 को 2 कीवर्गयापावरकहतेहैं।इसगणितीयशक्तियापावरकोऔसकहाजाताहै।आउसेतकेअंतमेंप्रत्यय ‘एत”, इसेस्त्रीलिंगबनाताहै।

इसके अलावा औस का अर्थ है स्रोत और शक्ति, इसका अर्थ मूल या कारणभीहै।

इससंबंधमें, हमआउसेतकोइसब्रह्मांडकीशक्ति, स्रोतऔरसृजितब्रह्मांडकेकारण, तथाइसब्रह्मांडकेसममस्तसमावेशीकेरूपमेंदेखेंगे।

औ-सेत का एक और दिलचस्प अर्थ नारी या देवी है, और वास्तव में वह धरती और आकाश की देवी है। वह ब्रह्मांड में नारी तत्व का प्रतिनिधित्व करती है। यह तत्व स्वयं को बेशुमार रूपों और तरीकों से खुद को अभिव्यक्त करती है, और इसलिए प्राचीन मिस्रवासी उसे 10,000 नामों (अर्थात् गुणों) वाली आउसेत (इसिस) कहते थे।

मिस्री नाम आउसेत से कई शब्द सीधे-सीधे निकलते हैं, जैसे कि सेता, जिसकाअर्थहैसंख्या 6। यहबहुतमहत्वपूर्णहैक्योंकि 6 स्थान, मात्राऔरसमयकीअंतिमसंख्याहै।इसकीछहसतहोंवालाघनपृथ्वीकामॉडलहै।इसप्रकार, वहब्रह्मांडीयगर्भ (ब्रह्म-अंड) केसाथ-साथधरतीकाभीप्रतिनिधित्वकरतीहै, जिसकेबारेमेंहमबादमेंविस्तारसेचर्चाकरेंगे।

आउसेत नाम के अर्थ से संबंधित एक और अंग्रेजी शब्द ‘सीटहै।इसिसकोहमेशावैधताकेस्रोतकेरूपमेंसिरपरसीटयासिंहासनपहनेहुएचित्रितकियाजाताहै, जोकिप्राचीनमिस्र (साथहीवर्तमानमूकबहुसंख्यक) केमातृवंशीयऔरमातृसत्तात्मकसमाजमेंप्रकटहोताहै।इसविषयपरइसपुस्तकमेंबादमेंचर्चाकीजाएगी।

जैसाकिहमनेउल्लेखकियाहै, हिन्दीयाअंग्रेजीभाषामेंइसिसकेसामान्यनामकाउपयोगमूल्यवानजानकारी, ज्ञानऔरविवेककेबोधमेंबाधाडालताहै।हालांकि, हिन्दीबोलनेवालेपाठकोंकीआसानीकेलिए, हमहिन्दी/अंग्रेजीभाषाकेपाठकोंकेपरिचितशब्द, इसिसतथाअन्यप्राचीनमिस्रीनामोंकाउपयोगकरनाजारीरखेंगे।

सृष्टि प्रक्रिया में ईश्वरीय नारी तत्व के रूप में इसिस की भूमिका को सभी ने मान्यता दी है। न जाने कब से, वह हर जगह मौजूद है—और सभी उसे जानते हैं। प्लूटार्क ने मोरालिया खंड 5 में इस बारे में लिखा हैः मोरालिया

इसिस, वास्तव में, प्रकृति का नारी तत्व है, और वह संतति के हर रूप की ग्राही है, और अधिकांश लोग उसे अनगिनत नामों से बुलाते हैं, क्योंकि वह कारण शक्ति है वह प्रत्येक आकारों और स्वरूपों के प्रति ग्रहणशील बन कर, अपनेआप को भिन्नभिन्न चीजों में ढाल देती है

प्रकृति के नारी तत्व के रूप मेंइसिसकीभूमिकाओंकोसमझनेकेलिए, हमेंजगतकेसृजनकेक्रममेंउसकीमूलब्रह्मांडीयभूमिकाकेबारेमेंजाननाहोगा।

 

[इसका एक अंश: इसिस : एक अलौकिक नारी  द्वारा लिखित मुस्तफ़ा ग़दाला (Moustafa Gadalla) ] 

पुस्तक सामग्री को https://egypt-tehuti.org/product/%E0%A4%87%E0%A4%B8%E0%A4%BF%E0%A4%B8-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%85%E0%A4%B2%E0%A5%8C%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%95-%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%80/

—————————-

पुस्तक खरीद आउटलेट:

एक मुद्रित paperbacks अमेज़न से उपलब्ध हैं ।

———-
बी- PDF प्रारूप में उपलब्ध है.. ।
मैं-हमारी वेबसाइट
ii-google पुस्तकें और google Play
—–
सी- mobi प्रारूप में उपलब्ध है.. ।
मैं-हमारी वेबसाइट
द्वितीय-अमेज़न
—–
डी- Epub प्रारूप में उपलब्ध है.. ।
मैं-हमारी वेबसाइट
ii-google पुस्तकें और google Play
iii-ibooks, kobo, B & N (नुक्कड़) और Smashwords.com